भारत आर्मीनिया को २८० करोड़ की रडार बेचेगा।

सवाथ रडार का सौदा: नई दिल्ली: देश के रक्षा क्षेत्र के लिए एक महत्वपूर्ण जीत में, भारत ने रूस और पोलैंड को हराकर यूरोप में आर्मेनिया को स्थानीय स्तर पर…

दो इंजन के तेजस विमान की तैयारी।

भारतीय नौसेना को अपने विमान वाहक के लिए एक भविष्य के लड़ाकू विमान की आपूर्ति करने के लिए बेंगलुरु में भारत के प्रमुख लड़ाकू विमान डिजाइन हाउस में एक नया…

भारत द्वारा पिनाका मिसाइल सिस्टम का सफल परीक्षण।

रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) द्वारा विकसित पिनाका मिसाइल सिस्टम का आज फिर से ओडिशा तट से सफल परीक्षण किया गया। पिनाका भारत में निर्मित और भारतीय सेना के…

फिलीपीन का भारत से ब्रह्मोस खरीदना तय।

ब्रह्मोस फिलीपीन खरीदेगा: भारत ने दो दिन पहले सफलतापूर्वक ओडिशा तट से दूर चांदीपुर एकीकृत परीक्षण रेंज से ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल के भूमि-हमले संस्करण का विकास परीक्षण किया है।…

भारत की बैलिस्टिक मिसाइल डिफेंस की एक ओर तैयारी।

तैरते हुए परीक्षण केंद्र: भारत अगले साल अपनी पहली फ्लोटिंग टेस्ट रेंज (FTR) के साथ अपनी बैलिस्टिक मिसाइल डिफेंस (BMD) फेज II इंटरसेप्टर मिसाइलों और अन्य फ्यूचरिस्टिक हथियारों का परीक्षण…

हवा से हवा में मारने वाली मिसाईल का भारत द्वारा सफल परीक्षण।

भारतीय वायु सेना (IAF) के Su-30MKI लड़ाकू ने मंगलवार (17 सितंबर 2019) को ओडिशा तट पर 70 किलोमीटर से अधिक की रेंज में स्वदेशी बियॉन्ड विजुअल रेंज एयर-टू-एयर एस्ट्रा मिसाइल…

भारत द्वारा मैन पोर्टेबल (मनुष्यों द्वारा उठाई जाने वाली) एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल का सफल परीक्षण।

डीआरडीओ ने स्वदेशी एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल का सफल परीक्षण किया। रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) ने आज देश में ही विकसित कम वजनी, दागो और भूल जाओ की…

३० किलोमीटर रेंज की त्वरित मिसाइल का परीक्षण पूर्ण।

डीआरडीओ ने आईटीआर चंदीपुर से सीधा हवाई लक्ष्य के विरूद्ध अत्याधुनिक त्वरित प्रतिक्रिया सतह-से-वायु मिसाइल का सफलतापूर्वक परीक्षण किया। रक्षा अनुसंधान विकास संगठन (डीआरडीओ) ने आज 4 अगस्त २०१९ को…

भारत अब स्वदेशी ट्रेनर विमान प्रयोग करेगा। स्विस कंपनी पर बैन।

भारतीय ट्रेनर विमान: एचटीटी-40 ऑल-मेटल, टैंडेम सीट एयरक्राफ्ट होगा जिसको 1,100 अश्वशक्ति (820 कि॰वाट) टर्बोप्रॉप इंजन से शक्ति मिलेगी। 2012 के मध्य तक इसका भविष्य संदेह में था क्योंकि भारतीय…

सियाचिन में भारतीय फौज कैसे रहती है।

सियाचिन की पहाड़ियां बहुत ठंडी होती हैं। यहां तापमान शून्य से 70 डिग्री नीचे तक चला जाता है। ऐसे में सेना ने सियाचिन ग्लेशियर जैसे स्थानों पर तैनात जवानों को…