तमिलनाडु के कीज़ाडी की खुदाई में अखिल भारतीय पुरातन सभ्यता की खोज।

तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एडप्पादी पलानीस्वामी ने शुक्रवार को चौथे और पांचवें चरण के दौरान शिवगंगा जिले के कीझडी में खुदाई की गई कलाकृतियों की प्रदर्शनी का उद्घाटन किया। आइटम मदुरै में प्रदर्शित किए गए हैं और जनता के लिए खुले हैं।

खुदाई की गई कुल 6,200 वस्तुओं में से, पुरातत्व विभाग लगभग 70% वस्तुओं को प्रदर्शित करेगा। इसमें सोने के आभूषण, बर्तन और मिट्टी से बने चेहरे शामिल हैं। खुदाई से निकले दृश्यों की प्रतिकृतियां खुद कुओं से लेकर बस्तियों तक प्रदर्शित की गई हैं। प्रदर्शनी प्रतिदिन सुबह 11 बजे से शाम 7 बजे तक खुली रहेगी।

पुरातत्व विभाग के निष्कर्ष भी एक और प्रमुख खोज का संकेत देते हैं – कि एक शहरी सभ्यता लगभग 2,500 साल पहले 6 वीं शताब्दी ईसा पूर्व में तमिलनाडु में वैगई नदी के तट पर पनप रही थी। इससे यह पता चलता है कि संगम युग – तमिलनाडु का स्वर्ण युग माना जाता था – जो पहले कभी सोचा गया था, उससे बहुत पहले शुरू हुआ।

साइट पर खुदाई के चौथे और पांचवें चरण ने प्रमुख खोजों का नेतृत्व किया है। वहां पाए जाने वाले आर्टिफैक्ट्स ने सिंधु घाटी सभ्यता और तमिल ब्राह्मी की लिपियों के बीच एक संभावित लिंक का निर्धारण किया है, जो आधुनिक तमिल का अग्रदूत है।

एक और महत्वपूर्ण खोज यह थी कि तमिलनाडु में एक शहरी सभ्यता थी जो गंगा के मैदान की सभ्यता के समकालीन थी।

यह खोज आर्यन इनवेजन थ्योरी के ताबूत में एक और कील साबित होगा। इस सभ्यता की खोज के बाद प्रथम दृष्टया यह लगता है कि भारत की प्राचीन सभ्यता सिर्फ उत्तर में नहीं वरण मध्य भारत एवं दक्षिण भारत में भी फैली हुई थी। और क्योंकि यह सभ्यता भारत के दक्षिण तक फैली थी यह कहना कि विदेशों से लोग आकर यहां बसे थे, एक कोरी कल्पना मात्र ही प्रतीत होती है।

तमिलनाडु के Keezhadi में खुदाई के पांच चरणों के साथ, अतीत के बारे में सामग्री और डेटा का एक समृद्ध भंडार प्रदान करते हुए, अगले स्थान पर खुदाई जनवरी 2020 के अंत तक शुरू होगी।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s