भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा सरकार को प्रदत्त राशि का सच क्या है?

अधिशेष नकदी:

भारतीय रिजर्व बैंक के केंद्रीय बोर्ड ने सोमवार को बैठक की, जिसमें सरकार को 1.76 लाख करोड़ रुपये के हस्तांतरण की मंजूरी दी।

रिजर्व बैंक, सरकार का एक उद्यम ही है जो लाभ या घाटे पर चलता है। जब यह लाभ अर्जित करता है तो सरकार को लाभांश देता है और यदि हानि होगी तो सरकार को पूरा करना पड़ेगा। इसी कड़ी में 2014-15 में आरबीआई ने 65,896 करोड़ रुपये का लाभांश हस्तांतरण किया था।

इस वर्ष २०१८-१९ के लिए १,२३,४१४ करोड़ रुपये का अधिशेष या लाभांश और ५२,६३,4 करोड़ रुपये के अतिरिक्त प्रावधान शामिल हैं। इतनी बड़ी रकम का एकमुश्त हस्तांतरण आरबीआई ने पहली बार किया है।

यह स्थानांतरण बिमल जालान समिति के संशोधित आर्थिक पूंजी ढांचे द्वारा सुझाए गए फार्मूले पर आधारित है जिसे सोमवार को बोर्ड ने अपनाया था। निधियों की लड़ाई के बीच, आरबीआई के साथ इष्टतम पूंजी स्तर को काम करने के लिए पैनल की स्थापना की गई थी।

सरकार के लिए राहत:बड़े पैमाने पर स्थानांतरण केंद्र के लिए एक बड़ी राहत के रूप में आया है, जो एक तंग राजस्व स्थिति से जूझ रहा है जिसने चालू वर्ष के लिए राजकोषीय घाटे के लक्ष्य को पूरा करने की सरकार की क्षमता पर चिंताएं पैदा की थीं। स्थानांतरण भी अर्थव्यवस्था के लिए एक प्रेरणा के रूप में कार्य करने की उम्मीद है।

रिजर्व बैंक सिर्फ पैसे नहीं छापता है, यह पैसा भी बनाता है और इसके लिए शब्द है – सेनिग्ज। यह मुद्रा की छपाई की लागत और मुद्रा के मूल्य के बीच का अंतर है। केंद्रीय बैंक उस धन पर ब्याज अर्जित करता है जो वह बैंकों को देता है, या वह निवेश करता है (जब्ती आय)। RBI अपने लाभ को लाभांश के रूप में विभिन्न गतिविधियों से अर्जित करता है और आकस्मिकता की वित्तीय अस्थिरता के मामले में शेष को आरक्षित रखने के लिए उपयोग करता है। केन्द्रीय बैंक अपनी कमाई का कुछ हिस्सा हर साल सरकार को लाभांश के रूप में देता है ओर कुछ हिस्सा अपने पास भविष्य की जरूरतों के लिए रख लेता है।
दुनिया के मानक:सरकार का मानना था कि RBI जरूरत से ज्यादा उच्च भंडार पर बैठा है। दुनिया भर के कुछ केंद्रीय बैंक (जैसे अमेरिका और यूके) अपनी संपत्ति का 13% से 14% रिजर्व के रूप में रखते हैं, जबकि RBI की भंडारित राशि 27% और कुछ (रूस की तरह) की तुलना में अधिक है।

RBI ने अपनी बैलेंस शीट पर 30 जून, 2018 को समाप्त वर्ष के लिए कुल 36.17 लाख करोड़ रुपये की संपत्ति अर्जित की। इसमें से 27% पर, केंद्रीय बैंक में लगभग 9.7 लाख करोड़ रुपये का भंडार होगा।

सरकार ने आरबीआई के 3.6 लाख करोड़ रुपये के अतिरिक्त भंडार का अनुमान लगाया था, जबकि अन्य स्वतंत्र अनुमानों ने ‘हस्तांतरणीय’ अधिशेष को 3 लाख करोड़ रुपये पर आंका है।

इसी पर जलान कमेटी गठित कर यह फैसला लिया गया कि इस साल कितना पैसा सरकार को लाभांश के रूप में दिया जाए। इस भुगतान के बाद भी केन्द्रीय बैंक, दुनिया के सबसे अमीर बैंको में से एक रहेगा।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s