भाजपा का अगला अध्यक्ष कौन होगा?

भाजपा के संगठनात्मक वास्तुकार अमित शाह ने मंत्रिमंडल में शामिल होने के बाद आज सब पार्टी के संगठन के लोगो से बैठक कर रही है।अफवाह है कि अगले अध्यक्ष के रूप में पूर्व स्वास्थ्य मंत्री जे पी नड्डा को अध्यक्ष पद सौंपने के लिए मंजूरी दी है।एक बार केंद्रीय बजट 10 जुलाई को (सभी संभावना में) से पारित हो जाता है, तो इस साल सितंबर में तीन राज्य चुनावों में जाएंगे – महाराष्ट्र, झारखंड और हरियाणा। नड्डा इसके बाद चुनाव प्रचार रणनीति की देखरेख करेंगे। इसके बाद जम्मू और कश्मीर और यहां तक कि अत्यधिक कर्नाटक में भी चुनाव होने की संभावना है जहां कांग्रेस का गठबंधन काफी पतली बर्फ पर स्केटिंग करता दिखाई दे रहा है। इसी तरह अगले साल की शुरुआत में, दिल्ली की लड़ाई में जीत की जरूरत है।59 साल के नड्डा राज्यसभा सदस्य हैं, जो लो प्रोफाइल रहते हैं, लेकिन भाजपा के संसदीय बोर्ड सचिव भी हैं। नड्डा को उनकी पार्टी में एक मास्टर रणनीतिकार के रूप में जाना जाता है। पार्टी ने उन्हें हाल ही में संपन्न चुनाव में उत्तर प्रदेश का प्रभार दिया था। पार्टी को 80 में से 62 लोकसभा सीटें मिलीं। अपना दल ने बसपा और सपा के एक जातिगत गठबंधन के खिलाफ दो जीत हासिल की।पटना के सेंट जेवियर्स स्कूल में शिक्षित, नड्डा ने बी.ए. पटना कॉलेज से, पटना विश्वविद्यालय और एल.एल.बी. हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय, शिमला से पूरी की। वह हिमाचल विधानसभा में तीन बार विधायक रहे हैं। वह हिमाचल प्रदेश से उच्च सदन में आए और 2014 में मंत्री नियुक्त किए गए।उसे अब अमित शाह द्वारा निर्धारित सटीक मानकों को पूरा करना होगा। भाजपा ने तेलंगाना में दक्षिण में पहली बार 4 सीटे हासिल की है। वही उसने कर्नाटक में 23 सीटे जीती है।नड्डा को भाजपा के पदचिह्न का विस्तार करने और सही मायने में भारतीय बनने के लिए ऑपरेशन दक्षिण पर ध्यान केंद्रित करने की उम्मीद है।इस साल जनवरी में उत्तर प्रदेश के चुनाव प्रभारी नियुक्त किए जाने के बाद अपनी पहली लखनऊ यात्रा के दौरान नड्डा ने भरोसा जताया था कि भाजपा उत्तर प्रदेश की 80 में से 74 लोकसभा सीटें जीतेगी और राज्य में सपा-बसपा गठबंधन को पीछे छोड़ देगी।2014 के आम चुनावों में, भाजपा ने राज्य में 71 लोकसभा सीटें जीती थीं और दो अन्य अपने सहयोगी दल – अपना दल के पास गई थीं। बीजेपी ने कड़े विपक्ष के खिलाफ 62 जीते, जबकि गठबंधन केवल 15 में कामयाब रहा।नड्डा के गृह प्रदेश में भाजपा को 60% से अधिक मत प्राप्त किये है जो कि अपने आप मे एक नया आयाम है।नड्डा के अलावा धर्मेंद्र यादव दूसरे दावेदार है। एक ओर नाम राम माधव का भी है जो कि पार्टी के उत्तर और पूर्वोत्तर में मुख्य रणनीतिकार है।पर विदित हो कि पिछले 5 सालों में भाजपा का कोई भी निर्णय प्रेस पहले से अनुमान लगाने में बिल्कुल विफल रही है। इस लिये पता तब ही चलेगा जब घोषणा की जाएगी।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s