कहानी रूसी युद्धपोत गोर्शकोव की जो अब विक्रमादित्य है।

2004 में भारत ने 1982 के बने पुराने रूसी युद्धपोत एडमिरल गोर्शकोव के लिए 1.5 अरब डॉलर का सौदा किया।

आई एन एस (INS) विक्रमादित्य:

(Sanskrit: विक्रमादित्य, Vikramāditya, “सूर्य की तरह प्रतापी”) पूर्व सोवियत विमान वाहक एडमिरल गोर्शकोव का नया नाम है, जो भारत द्वारा हासिल किया गया है। पहले अनुमान था कि 2012 में इसे भारत को सौंप दिया जाएगा, किंतु काफी विलंब के पश्चात् 16 नवम्बर 2013 को इसे भारतीय नौसेना में सेवा के लिए शामिल कर लिया गया। कुल लागत 2.35 अरब डॉलर की आई।

रूसी सेवा में, 45,000 टन के इस जहाज से कुछ हेलिकॉप्टर और छोटे जेट उड़ाए जाते थे। रूस ने इसे भारत को बेचने की पेशकश की।

भारतीयों ने उड़ान डेक का विस्तार करने के लिए भुगतान किया और एक रैंप को 16 मिग -29 युद्धक विमानों को समायोजित करने के लिए फिट किया गया।

विक्रमादित्य बेहद खराब तरीके से प्रबंधित रूसी शिपयार्ड रिफिट के कारण एक अच्छा प्रयोग नही सिद्ध हुआ। लागत दोगुनी हो गई और परीक्षण सितंबर 2012 तक टाले गए। और जब चालक दल ने पारंपरिक रूप से संचालित जहाज को 32 समुद्री मील की सैद्धांतिक शीर्ष गति पर धकेल दिया, तो उसके बॉयलर अतिउष्मित हो गए।

बाद में पुराने बॉयलरों को भी निकल कर नए डीजल वाले बॉयलरों को स्थापित किया गया। पर समस्या अभी भी है। कि बार आग लग चुकी है और कई नोसैनिक जान गवा चुके है।
आठ बॉयलरों को निकाल दिया जा रहा है और तेल ईंधन भट्ठी को डीजल ईंधन भट्ठी में तब्दील कर दिया गया है और अंतरराष्ट्रीय मानकों को पूरा करने के लिए आधुनिक तेल-जल विभाजकों के साथ-साथ एक दूषित जल शोधक संयंत्र लगाया जा रहा है। इस जहाज में छह नए इतालवी-निर्मित वार्तसिला (Wärtsilä) 1.5 मेगावाट डीजल जेनरेटर, एक वैश्विक समुद्री संचार प्रणाली, स्पेरी ब्रिजमास्टर नेविगेशन रडार, एक नया टेलीफोन एक्सचेंज, नया डेटा लिंक और एक आईएफएफ एमके XI प्रणाली (IFF Mk XI system) भी लगायी जा रही है।

जहाज की क्षमता:

विक्रमादित्य ४५३०० टन भार वाला, २८४ मीटर लम्बा और ६० मीटर ऊँचा युद्धपोत है। तुलनातमक तरीके से कहा जाए तो यह लंबाई लगभग तीन फुटबॉल मैदानों के बराबर तथा ऊंचाई लगभग 22 मंजिली इमारत के बराबर है।

इस पर मिग-29-के (K) लड़ाकू विमान, कामोव-31, कामोव-28, सीकिंग, एएलएच ध्रुव और चेतक हेलिकॉप्टरों सहित तीस विमान तैनात और एंटी मिसाइल प्रणालियां तैनात होंगी, जिसके परिणामस्वरूप इसके एक हजार किलोमीटर के दायरे में लड़ाकू विमान और युद्धपोत नहीं फटक सकेंगे।

1600 नौसैनिकों के क्रू मेंबर्स के लिए 18 मेगावॉट जेनरेटर से बिजली तथा ऑस्मोसिस प्लांट से 400 टन पीने का पानी उपलब्ध होगा। इन नौसैनिकों के लिए हर महीने एक लाख अंडे, 20 हजार लीटर दूध, 16 टन चावल आदि की सप्लाई की जरूरत होगी।
जल-उत्पादन संयंत्रों के अलावा योर्क अंतर्राष्ट्रीय प्रशीतन संयंत्र और वातानुकूलक के साथ होटल सेवाओं में सुधार किए जा रहे हैं। घरेलू सेवाओं में सुधार तथा 10 महिला अधिकारियों की आवास सुविधा के साथ एक नया पोत-रसोईघर स्थापित की जा रही है

जीवन चक्र:

हालांकि जहाज का आधिकारिक जीवन काल 20 वर्ष अपेक्षित है, लेकिन विशेषज्ञों का मानना है कि नियुक्ति के समय से इसका जीवन काल वास्तव में कम से कम 30 वर्ष हो सकता है। आधुनिकीकरण के पूरा हो जाने पर जहाज और उसके उपकरण का 70 प्रतिशत नया होगा और बाक़ी का नवीकरण किया जाएगा

भारत अपने स्वनिर्मित विमान वाहक पोत विक्रांत का समुद्र पार परीक्षण कर रहा है और आशा है 2020 तक वह नोसेना के बेड़े में शामिल कर लिया जाएगा।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s