2019 चुनाव भाजपा और मोदी क्यो जीत रहे है?

2019 चुनाव में एग्जिट पोल में भाजपा समर्थन:

अमित शाह और नरेंद्र मोदी की नेतृत्व में 2019 का चुनाव भाजपा जीती हुई लग रही है, जैसा कि सभी एग्जिट पोल भी बता रहे है। इस सफलता के क्या कारण है?आइए जाने की कोशिश करते है।

सत्ता समर्थन में मतदाता:

यह स्पष्ट रूप से सत्ता समर्थक चुनाव है जो आज दुनिया में काफी दुर्लभ है।

पिछले कुछ महीनों में जो भी बयानबाजी हुई है, उसका सफलतापूर्वक समापन हो चुका है और अगर एग्जिट पोल की बात करें तो मोदी जनता के बीच पवित्रता और लोकप्रियता के अग्नि परीक्षा (अग्नि परीक्षा) में पास होने वाले हैं।

भाजपा का मुख्य फोकस इस बार मतदाताओं का लाभार्थी खंड था। यही वे लोग हैं, जिन्हें आवास योजना, उज्ज्वला, आयुष्मान, जन आषाढ़ी, कर छूट, जीएसटी राहत, अटल पेंशन योजना आदि से लाभ मिला था। इन योजनाओं ने बहुत सारे लोगों को (10 करोड़ परिवारों को) छुआ है।

फिर भाजपा नेतृत्व की स्वच्छ छवि है। राफेल विवाद में सीएजी और उच्चतम न्यायालय से मिली क्लीन चिट ने उनकी छवि को नुकसान पहुंचाने के बजाय मोदी के लिए एक सहानुभूतिपूर्ण लहर उत्पन्न हो गयी। रही सही कसर राहुल गांधी की माफी से पूरी हो गई।

भारत में बढ़ा हुआ राष्ट्रवादी उत्साह।

सर्जिकल स्ट्राइक और एयर स्ट्राइक वास्तव में बड़ी उपलब्धियां थीं, लेकिन इससे मोदी को इस हद तक मदद नहीं मिलती अगर यह विपक्षी नेताओं, विशेषकर कांग्रेस के अपमानजनक घुटने टेकने की प्रतिक्रियाओं न होती। इसने एक व्यापक दरार पैदा की जहां लोग इन दंडात्मक कार्यों पर आनन्दित हुए, लेकिन साथ ही साथ उन्होंने कांग्रेस को राष्ट्रीय सुरक्षा और भारतीय सशस्त्र बलों के लिए एक दुश्मन के रूप में देखा। मोदी ने भी इस प्रतिक्रिया का अपने पक्ष में उपयोग करने में कोई कसर नहीं छोड़ी।

5 साल से देश मे एक भी आंतक की घटना ने होने देना भी एक उपलब्धि थी जो आम आदमी के लिए एक बड़ी राहत है। सुरक्षा की घेरे में रहने वाले राजनीतिक लोग इस समस्या को कोई समस्या ही न मानना भी उनके लिए लाभकारी सिद्ध नही हुआ।

इन सब पर कांग्रेस का घोषणापत्र था। सबसे पहले NYAY, उनकी फ्लैगशिप स्कीम का शिक्षित मध्य वर्ग द्वारा कड़ा विरोध किया गया। इस स्कीम के मूल लक्ष्य को योजना के बारे में पूरी तरह से कभी नहीं पता चला। इसलिए इसने अपने मतदाता आधार को सुधारने के बजाय नुकसान पहुंचाया।

कांग्रेस नेता टुकड़े गैंग के साथ तो पहले ही खड़ें थे। इसके बाद AFSPA को कमजोर करना, देशद्रोह कानूनों को हटाना आदि जैसी चीजें थीं जो उनके खिलाफ काम कर रही थीं।

अंतिम बात यह थी कि इस चुनाव में, लोगों ने विपक्षी दलों के अवसरवादी रवैये को देखा। विचारधारा में 180 डिग्री के अंतर वाले लोग एक साथ आए और BFFs के रूप में व्यवहार किया। वे कोई सामान्य आधार नहीं रखते थे, लेकिन सिर्फ एक एजेंडा था- मोदी को हराना।

लोग आज लाइनों के बीच पढ़ने में बहुत स्मार्ट हैं, यहां तक कि साधारण ग्रामीण भी। अब इस बारे में सोचने के बाद, ऐसा लगता है कि इस पूरे मामले ने मोदी की स्थिति को भारतीयों (विशेषकर अघोषित मतदाताओं) की दृष्टि में एक नायक के रूप में और भी अधिक बढ़ा दिया, क्योंकि इसे एक व्यक्ति बनाम दुनिया की लड़ाई के रूप में देखा गया था।

संक्षेप में, यह चुनाव न केवल मोदी की नीतियों के अनुमोदन के बारे में था, बल्कि कांग्रेस और पूरे मोदी विरोधी ब्रिगेड की अस्वीकृति भी थी। इस मामले में यह चुनाव राजनीतिक लड़ाई बनाम विकास की सरकार के रूप में प्रस्तुत करने की मोदी की कोशिश सफल हो गई लगती है।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s